सन 2022 में कब कब पड़ेगा सूर्य ग्रहण सब जानकारी देखें घर बैठे।

कब तक पड़ेगा सूर्य ग्रहण सब जानकारी देखें घर बैठे।

Surya Grahan 2022 आज सूर्य ग्रहण लग रहा है। 25 नवंबर को शाम चार बजकर 29 मिनट से करीब डेढ़ घंटे तक ग्रहण का प्रभाव रहेगा। सूतक काल का ग्रहण के दौरान खास महत्‍व है। भारत में सूर्य ग्रहण शाम 6 बजकर 9 मिनट के बाद समाप्‍त हो जाएगा आज साल 2022 का आखिरी सूर्य ग्रहण लग रहा है। नवंबर माह की 25 तारीख, दिन शुक्रवार को लग रहा यह सूर्य ग्रहण कई मायनों में खास है। बृहस्पतिवार के अगले दिन लग रहे इस सूर्य ग्रहण के बारे में ज्‍योतिषविदों का मानना है कि इसका दूरगामी प्रभाव देखने को मिलेगा। शाम चार बजकर 29 मिनट से करीब डेढ़ घंटे तक ग्रहण का प्रभाव रहेगा। सूतक काल का ग्रहण के दौरान खास महत्‍व है। भारत में सूर्य ग्रहण शाम 6 बजकर 9 मिनट के बाद समाप्‍त हो जाएगा। सूर्य ग्रहण 2022 से 12 घंटे पहले ही सूतक काल प्रभाव में आ गया है। सूर्य ग्रहण के चलते इस बार कोई भी पूजा 26 नवंबर को मनाई जाएगी।

सभी देखें कब से कब तक पड़ेगा सूर्य ग्रहण।

खगोलविदों के मुताबिक 25 नवंब को लग रहा यह सूर्य ग्रहण आइसलैंड में भारतीय समय के अनुसार दोपहर 2 बजकर 29 मिनट पर ही शुरू हो जाएगा। सूर्य ग्रहण 2022 शाम 6 बजकर 20 मिनट पर अरब सागर में खत्म हो जाएगा। पंचांग के अनुसार भारत में यह सूर्य ग्रहण सायं करीब 4 बजकर 29 मिनट से शाम 6 बजकर 9 मिनट तक रहेगा।ज्‍योतिषविदों की मानें तो क्‍योंकि नक्षत्र का दोष ग्रहण के एक दिन आगे और एक दिन पीछे तक माना जाता है। 25 नवंबर को रात में अमावस्‍या होने के कारण और अगली तिथि 25 नवंबर को भोर से ही सूतक काल लगने के चलते इस बार सूर्य ग्रहण 2022 के बारे में ज्‍योतिषी कह रहे हैं कि 27 साल के बाद ऐसा दुर्लभ योग बन रहा है।

कब खत्म होगा सूर्य ग्रहण।

सूर्य ग्रहण के दौरान पूजा-पाठ वर्जित रहेगा सूर्य ग्रहण के दौरान रसोई न बनाएं गर्भवती महिलाएं घर से बाहर न निकलें बच्‍चे और बुजुर्ग भी अतिरिक्‍त सावधानी बरतें ग्रहण के दौरान शुभ कार्य न करें सूतक काल प्रभावी रहने पर भगवान का ध्‍यान करें सूतक काल में मंदिर का पट बंद हो जाता है सूतक काल में यात्रा न करें सूर्य ग्रहण के दौरान अराध्‍य देव का मंत्र जाप करें सूर्य ग्रहण के बीच गायत्री मंत्र का जाप फलदायी होता है

धर्मग्रंथों के अनुसार, सूतक के दौरान मूर्ति पूजा निषेध है। यही नहीं इस दौरान खाने-पीने की चीजों में तुलसी के पत्ते डालकर रखे जाते हैं। इसके अलावा मंदिरों में ग्रहण के बाद साफ-सफाई होने के बाद ही पूजा आरंभ होती है। ज्योतिषियों की मानें तो इस बार ग्रहण का स्पर्श इस बार भारत में ही होगा।

 ऐसा कोई ग्रहण नहीं जिसका असर राशियों पर न हो, इस ग्रहण का असर भी विभिन्न राशियों पर होगा। कुछ राशियों के लिए यह ग्रहण बहुत शुभ समय लेकर आ रहा है, तो कुछ के लिए समय अत्यंत खराब भी होगा। इसलिए ग्रहण के समय भगवान का नाम लेते रहे हैं। इस ग्रहण से मीन राशि वालों के लिए थोड़ा खराब रहेगा, वहीं सिंह राशि वालों को धनलाभ देगा। इसके अलावा धनु राशि और मकर राशि भी इस ग्रहण से लाभ पाएंगे।

Share this

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *